अपनी मोहब्बत का यह पैग़ाम लिखा है- Deepika

अपनी मोहब्बत का यह पैग़ाम लिखा है- Deepika

अपनी मोहब्बत का यह पैग़ाम लिखा है- Deepika

नज्म़ नज्म़ में तेरा बखान लिखा है ।

अपनी मोहब्बत का यह पैग़ाम लिखा है ।।

तेरी आंखों की चमक हमें रास आ गई,

होठों की वो मुस्कान कुछ कानों में कह गई ।

सुनहरे बालों का कुछ जादू सा चल गया,

तेरे हुस्न-ओ-अदा पे कुछ फ़ना सा हो गया ।

हर्फ़ दर हर्फ़ फिर जिसमें तेरा गुणगान लिखा है,

वो गज़ल पेश करूं जिसमें तेरा नाम लिखा है ।

अपनी मोहब्बत का यह पैग़ाम लिखा है ।।

तेरे ख्याल से रातें बेचैन सी हो गईं,

करवटें बदल बदल कर सिल्वटें भी पर गईं ।

उस रात के गुफ्त़गू का कुछ असर हो गया,

तुझ पर भी शा़यद मेरा कुछ जादू तो चल गया ।

आ ज़रा गौर फरमा जो तुझ पर लिखा है,

एक नई शुरुआत के जश्न में लिखा है ।

अपनी मोहब्बत का यह पैग़ाम लिखा है ।।

न जाने अब तक कितनी रातें गुज़र गईं ,

और धीरे-धीरे तेरी आदत भी पर गई ।

मोहब्बत का रंग तो उन पर भी चढ़ गया ,

आज ये शा़म वो यादें ताजा कर गया ।

कई दिनों बाद उस दिन की याद में लिखा है ,

उस मोहब्बत की शुरुआत के बारे में लिखा है ।

अपनी मोहब्बत का यह पैग़ाम लिखा है ।।

बेरहम सी रात और तेरी ज़ालिम याद आ गई ,

जुबां पर हौले से प्यार की बात आ गई ।

पता चला जब मोहब्बत का असर हो गया ,

जिस रात तेरी याद में आंसू टपक गया ।

हमारे मोहब्बत की दास्तां के बारे में लिखा है ,

आज फुर्सत से उन्हें याद करके कुछ लिखा है ।

अपनी मोहब्बत का यह पैग़ाम लिखा है ।।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *