Monthly Archives: March 2019

जब दिख जाए आपकी गुलाबी आँखे 

जब दिख जाए आपकी गुलाबी आँखे 

    जब दिख जाए आपकी गुलाबी आँखे कुछ न दिखता उस मंज़र से आगे।   घुम रही थी वो हाथो मे लेकर रख दिया हमने भी दिल अपना उस खंजर के आगे।   इस जहाँ मे क्या रखा हैं परिंदे चलो चलें हम उस अंबर के आगे ।   कब तक टहलते रहोगे किनारे […]

Read More
Soldier’s wife love

Soldier’s wife love

डर था कि नहीं आओगे मगर भरोसा था या तो जीत कर आओगे , या तिरंगे में लिपटे हुए गर्व से आओगे … आज भी तुम्हारी शर्ट से खुशबू सी आती है , आज भी तुम्हारे पास होने का एहसास कराती है … फ़र्ज़ के आगे मेरा प्यार कुछ नही तुम्हारी और मेरी नन्ही सी […]

Read More
प्यार भले न था आँखो मे हिकारत भी नही थी

प्यार भले न था आँखो मे हिकारत भी नही थी

प्यार भले न था आँखो मे हिकारत भी नही थी हाँ मगर उसके देखने मे वो शरारत भी नही थी। रुख़्सार पे लटक आई जुल्फों को हटा दिया हमने मगर इस मर्तबा उसकी इजाजत भी नही थी। हलवानी सी उसकी आँखे को निहारते रहे जनाब इससे आगे बढ़ने की हमारी हिमाकत भी नही थी। शाकिर […]

Read More
वो देखने आई थी अपने आशिक को आख़िरी दफा 

वो देखने आई थी अपने आशिक को आख़िरी दफा 

वो देखने आई थी अपने आशिक को आख़िरी दफा अभी तक महक रही हैं ईट उस मज़ार का। पालकी मे बैठीं कौन हैं वो ? की सिर्फ उसके खुशबू से मदमस्त हुआ जा रहा हैं रूह भी कहार का। वो टूटा भी अगर तो कयामत थोरि न बरप गई खिलौना ही तो था वो आपके […]

Read More